अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

शुक्रवार, 24 मार्च 2017

जीतना किसी भी तरह

जीतना
यह बाजी
सब कुछ दांव पर लगा कर
हर दांवपेंच आजमा कर
सभी मोहरे इस्तेमाल कर
लेकिन
जीतना जरूर
यदि संभव न हो तो भी
जीतना

जीतना
यदि किसी को है हराना
किसी को न हरा सको
तो भी हार न मानना
और
किसी भी तरह
यह बाजी
जीतना

जीतना
इस खेल में
नहीं बहना
खेल भावना में
खिलाड़ी हो पुराने
बखूबी सब जानते हो
अपना भला कैसे हो
प्रतिद्वंदी को हर हाल में
हराना
मंजे खिलाड़ी सिद्ध होने
मजे मौज करने कराने
अपना संकल्प पूरा करने
अपनी जिम्मेदारी बढ़ाने
अपनी जयजयकार कराने
आवश्यक है यह बाजी
जीतना

जीतना
यह बाजी
शतरंजी दिमाग दौड़ा कर
झोंक कर पूरी ताकत
सभी हथकंडे अपना कर
धन बाहु बल का साथ लेकर  
चित्त कर प्यादे घोड़े हाथी
राजा रानी को हरा कर
जीतना
जरूरी नहीं है होना नैतिक
क्योंकि
यह खेल है शुद्ध राजनैतिक
और तो और
इस चुनावी मौसम में
हवा भी है पक्ष में
चहुँ ओर चल रही है लहर
विकास की चालों के कारण
सबका साथ
फिर न मिलेगा कभी इतना
इसलिए भी
आवश्यक है यह बाजी
जीतना
किसी भी तरह !

@ दिनेश ठक्कर बापा
(चित्र गूगल से साभार)
 

एक टिप्पणी भेजें