अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

रविवार, 12 मार्च 2017

मिला उत्तर, प्रदेश अब हमारा है

प्रश्नों के सतत प्रहारों से मिला यह उत्तर
प्रदेश अब हमारा है
अपेक्षा से अधिक आया है यह परिणाम
परंतु
प्रश्नों को यद्दपि अपेक्षित रहेगा यह उत्तर
प्रदेश अब हम सबका है

हमने स्वयं से नहीं किए इस प्रकार प्रश्न
कि हम दे सकें कोई उत्तर
प्रदेश पर क्या जता सकेंगे कुछ अधिकार
कि उनको ही रहेगा भेदभाव करने का हक़
क्या वे सबको सपने पृथक दिखाते रहेंगे
अवसर देने में अवसरवादी तो नहीं बनेंगे  
या हाशिए पर रह कर मांगेंगे इसका उत्तर
प्रदेश क्या हम सबका है
अथवा तुष्टिकरण के कारण
हमें भी कर सकेगा संतुष्ट कभी यह उत्तर
प्रदेश अब हम सबका है

हम चाहेंगे बहुमत अब सर्वमत बन जाए
अप्रत्याशित परिणाम से प्रमाणिकता बढ़े
गलत इरादे से कोई काम नहीं होना चाहिए
कल तक जो सामने थे अब वे साथ हो जाएं
सबके साथ होना ही चाहिए सबका विकास
हमें मिलेंगे क्या समस्त प्रश्नों के सही उत्तर
कि प्रदेश में फैलेगा नहीं विद्वेष का कीचड़
आपसी भाईचारा होगा तो नहीं धुंआ धुंआ
साम्प्रदायिक बोल भड़काएंगे तो नहीं आग
अपेक्षा है प्रश्नों को खारिज करेगा यह उत्तर
प्रदेश अब हम सबका है


हमारे प्रतिप्रश्नों पर मिलता रहेगा यह उत्तर
प्रदेश अब हम सबका है
क्योंकि
आगे सुनाया जाना भी तो शेष है यह उत्तर
प्रदेश सभी अब हमारे हैं
तब फिर खड़े हो जाएंगे बहुत सारे प्रश्न
और
नए हिंदुस्तान में उत्तर पाने की उम्मीद में
हम केवल उनका मुंह ताकते रह जाएंगे !

@ दिनेश ठक्कर बापा
 (चित्र गूगल से साभार)

     
 
   
     



एक टिप्पणी भेजें