अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

शुक्रवार, 20 नवंबर 2015

रामेश्वरम का राम पादुका मंदिर

रामेश्वरम से लगभग डेढ़ मील दूर उत्तर पूर्व में गंधमादन पर्वत पर स्थित राम पादुका मंदिर भी श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है। इस मंदिर में काले पत्थर से निर्मित दो पादुकाओं, चरण चिन्ह की पूजा अर्चना भक्तों द्वारा की जाती है। श्रद्धालुओं में यह मिथक प्रचलित है कि यह चरण चिन्ह श्रीराम के हैं। इस मंदिर परिसर से रामेश्वरम का विहंगम दृश्य देखा जा सकता है। यहां बेर और राम फल बेचने वाली ग्रामीण महिलाओं को शबरी स्वरूप मान कर श्रद्धालुजन उनसे यह सामग्री खरीद कर प्रसाद बतौर बाँटते भी हैं। गंधमादन पर्वत दरअसल एक छोटी सी पहाड़ी है, जिसके शिखर पर यह मंदिर बना है। भक्तों में ऐसी मान्यता है कि हनुमान जी ने समुद्र को लांघने के लिए यहीं से छलांग मारी थी। श्रीराम ने लंका पर चढ़ाई करने के लिए इसी स्थल पर ही अपनी सेना संगठित की थी।
@ दिनेश ठक्कर बापा
एक टिप्पणी भेजें