अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

शनिवार, 23 मई 2015

अभिव्यक्ति को जिंदा ही रखना होगा

निर्भय होना होगा
अभिव्यक्ति के खतरों के प्रति
सतत झूझते रहना होगा
अभिव्यक्ति के संकट से
तैयार रहना होगा
अभिव्यक्ति का प्रतिफल भुगतने
स्वयं को ही झेलना होगा
अभिव्यक्ति का प्रत्याशित परिणाम
सहन करना होगा
अभिव्यक्ति से होने वाला आघात  
अंतस कड़ा करना होगा
अभिव्यक्ति के अंत्याक्षर तक

अब बीच बस्ती में आक्रमण होगा
अभिव्यक्ति के शत्रु खूंखार भेड़ियों का
शेर की मांद में ही इनका अड्डा होगा
अभिव्यक्ति दबोचने मार्गदर्शन मिलेगा
अबकी बार तरीका बदला बदला होगा
अभिव्यक्ति पर हमला होगा आधुनिक
हालांकि सोच का दायरा पुराना होगा
अभिव्यक्ति उच्च तकनीक से लीलेंगे
बौद्धिकता की खाल ओढ़ प्रयास होगा
अभिव्यक्ति को निःशब्द करने का
प्रतिबद्ध मुखबिरों मार्फ़त प्रयास होगा
अभिव्यक्ति-संवेदनाएं शून्य करने का
अंधानुकरण के दांतों का प्रयोग होगा
अभिव्यक्ति के मुखर सख्त शरीर में
इसके बावजूद कभी कम नहीं होगा
अभिव्यक्ति का आत्मविश्वास

भेड़ियों के सभी अड्डे ढहाना होगा
अभिव्यक्ति को सशक्त बनाना होगा
दबाव के चंगुल से बाहर आना होगा
अभिव्यक्ति को नवआयाम देना होगा
कलम का स्वर और बुलंद करना होगा
अभिव्यक्ति को आजाद रखना होगा
प्रतिकूल स्थितियों में भी भिड़ना होगा
अभिव्यक्ति को जिंदा ही रखना होगा
 
@ दिनेश ठक्कर "बापा"
(चित्र : गूगल से साभार)



एक टिप्पणी भेजें