अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

शनिवार, 14 फ़रवरी 2015

मिर्ची लग गई है













तीखा अधिक
मीठा कम बोलते हैं वे
लम्बी है इनकी जीभ
मिर्ची ज्यादा खाते हैं वे

करीबी मित्र को भी पसंद है
मिर्ची ज्यादा खाना
चाहे वह हरी हो या लाल
स्वाद बढ़ाने में हैं माहिर वे

चौंकते थे पहले इनके अपने
मिर्ची ज्यादा खाते देख कर
किंतु अब आदत सी हो गई है
स्वयं के सफल सेवक जो हैं वे

फिलहाल इनकी आंखें लाल हैं
यदा कदा टपकने लगे हैं आंसू
जीभ में भी छाले पड़ गए हैं
डर रहे हैं अब मिर्ची खाने से वे
आशंकित भी हैं मीठा बोलने से
आसपास चीटियां न उमड़ पड़े
सहमे हैं आपकी हमारी सेहत से   

अच्छे दिनों के साथी व्यथित हैं
बुरे दिनों की शुरूआत देख कर
शुभचिंतक भी बेहद चिंतित हैं
मुंह की खाई हालत देख कर
धीमे स्वर में उनसे पूछते हैं वे
क्या हुआ मोटा भाई ?
टका सा जवाब मिलता है
मित्रों, मिर्ची लग गई है!

@ दिनेश ठक्कर "बापा"
    (चित्र गूगल से साभार)





एक टिप्पणी भेजें