अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

शुक्रवार, 19 दिसंबर 2014

जिंदगी का सफ़र

जिंदगी का सफर जारी है
तकलीफों की कड़ी धूप में
जीने का हौंसला मेरा बढ़ाती है
दुआओं की घनी छाँव
बीतते लम्हें नई राह दिखा जाते हैं
मुझे इस सफर में
ईमान की राह में थमेंगे नहीं
वक्त के काँटे चुभे ये पाँव

@ दिनेश ठक्कर "बापा"
(तस्वीर श्रीमती प्रीति ठक्कर द्वारा) 
एक टिप्पणी भेजें