अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

सोमवार, 23 सितंबर 2013

कांगेस की टिकट पाने दावेदारों में बढ़ी सियासी खींचतान

छत्तीसगढ़ में आसन्न विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बिलासपुर जिले में कांग्रेस की टिकट के लिए दावेदारों के मध्य होड़ और खींचतान बढ़ गई है। टिकट पाने की जुगत में दो बार दिल्ली जाकर अपने अपने आकाओं से मुलाक़ात करने के बाद दावेदार अगले कुछ दिनों में तीसरी दफे दिल्ली जाने वाले हैं। राहुल गांधी की टीम के सर्वेयर बिलासपुर जिले में भी जीतने योग्य दावेदार की टोह ले रहे हैं। खुफिया रिपोर्ट एवं पूर्व सर्वे के आधार पर टिकट के योग्य दावेदारों का फिर से ब्यौरा इकट्ठा किया जा रहा है। ब्लाक स्तर पर जिन नामों को प्रदेश कांग्रेस द्वारा दिल्ली भेजा गया है, उनकी संभावित जीत को टटोलने के लिए गोपनीय सर्वे भी जारी है। दावेदारों से चुनाव जीतने का रोडमैप बनाने को कहा गया है।
बिलासपुर, कोटा, तखतपुर, बिल्हा, मस्तूरी, बेलतरा तथा मरवाही विधानसभा क्षेत्र से टिकट पाने के लिए वरिष्ठ दावेदार नेताओं का सियासी गुणा भाग अभी तक जारी है। यद्दपि कोटा से वर्तमान विधायक डा रेणु जोगी तथा मरवाही से विधायक और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का ही नाम ब्लाक स्तर पर तय किया गया है। इसलिए इस दो सीट पर घमासान कम मचा हुआ है। लेकिन बिलासपुर, बेलतरा, बिल्हा, तखतपुर और मस्तूरी विधानसभा क्षेत्र से टिकट पाने के लिए दिग्गज दावेदारों द्वारा गुटीय प्रतिस्पर्धा के चलते एक दूसरे का कच्चा चट्ठा आलाकमान तक पहुंचाया जा रहा है। परस्पर मोर्चा खोल कर एक दूसरे की शिकायत करने का सिलसिला बदस्तूर जारी हैं। दावेदारों के खिलाफ पूर्व में छपी अखबारी ख़बरों की कतरनें, विरोधी बीजेपी नेताओं से मेलजोल की वीडियो सीडी आदि अपने केन्द्रीय आकाओं के जरिये हाई कमान तक भिजवाई गई है।
बिलासपुर विधानसभा क्षेत्र से स्थानीय बीजेपी विधायक और प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल के खिलाफ फिलहाल महापौर श्रीमती वाणी राव को ही सक्षम और धनाड्य कांग्रेस प्रत्याशी माने जाने के कारण उनकी टिकट तय मानी जा रही है। लेकिन अंतिम क्षणों में उम्मीदवार का नाम बदले जाने की कांग्रेसी परम्परा को दृष्टिगत रखते हुए बाकी खांटी दावेदार अभी भी टिकट के प्रति आशान्वित हैं। बिलासपुर सीट से टिकट हासिल करने की कवायद में जुटे कांग्रेस नेता अशोक अग्रवाल, विजय पाण्डेय, अटल श्रीवास्तव, विवेक उर्फ़ चिका बाजपेयी तथा राजेश पाण्डेय ने अभी भी उम्मीद नहीं छोडी है। ये सभी दावेदार दिल्ली में मत्था टेक कर आ चुके हैं। इनका मानना है कि बी फ़ार्म आने तक टिकट का प्रयास करने में वे कोई कोताही नहीं बरतेंगे। दिल्ली में होने वाली स्क्रीनिंग कमेटी की हर बैठक पर ये सभी दावेदार नजर बनाए हुए हैं। वे अपने अपने सूत्रों से सूचनाएं ले रहे हैं। दिल्ली में 27 सितंबर को कांग्रेस की प्रदेश चुनाव समिति तथा स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक प्रस्तावित है जिसमें वर्तमान कांग्रेस विधायकों और कांग्रेस के शहीद नेताओं के परिवारों में से प्रत्याशी तय किए जाएंगे। अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में कांग्रेस के कुछ प्रमुख उम्मीदवारों के नाम की घोषणा होने की संभावना जताई जा रही है। पहली सूची में प्रमुख आसान सीटों पर प्रत्याशी तय होने की बात कही जा रही है।
वहीं दूसरी तरफ जिले में बूथ स्तर पर भी कार्यकर्ताओं को रिचार्ज करने ब्लॉक कांग्रेस कमेटी मशक्कत कर रही है। उन्हें संगठित होकर चुनाव में एकजुटता दिखाने का पाठ पढ़ाया जा रहा है। ताकि इस बार राज्य में कांग्रेस की सरकार बन सके।बिल्हा के बाद बेलतरा विधानसभा क्षेत्र की बैठक गत दिनों मोपका में ब्लाक कांग्रेस के नेतृत्व में हुई। राहुल गांधी के निर्देश पर प्रदेश प्रभारी बीके हरिप्रसाद द्वारा बेलतरा सीट के लिए नियुक्त समन्वयक रविन्द्र दलवी ने बैठक लेते हुए कांग्रेस जनों से कहा कि वे चुनाव की तैयारी में पूरी तरह जुट जाए और पार्टी की रीति- नीति को जन-जन तक पहुंचाएं। उन्होने कहा कि बेतलरा क्षेत्र के 201 मतदान केन्द्रों में पार्टी को बढ़त दिलाने हम सबको बूथ स्तर पर युवाओं की टीम खड़ी करना है। दलितों, आदिवासियों तथा पिछड़ा वर्गो को इसमें विशेष तौर पर जोडऩा है और उनकी भागीदारी सुनिश्चित करनी है। दलवी ने यह भी कहा कि वे चुनाव होते तक क्षेत्र में रहकर बूथ स्तर तक दौरा करेंगे।
इस अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरूण तिवारी ने कार्यकर्ताओं से अपील की कि कांग्रेस प्रत्याशी की जीत के लिए सबको अभी से एकजुट होकर कार्य करना है। दिल्ली से आए समन्वयक दलवी का परिचय कराते हुए ब्लाक अध्यक्ष साखन दर्वे ने कहा कि बेलतरा क्षेत्र को 11 सेक्टर में बांट कर इन पर पदाधिकारियों की नियुक्ति की गई है जो क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवार को प्रचंड मतों से जिताएंगे। बहरहाल, इन तमाम सियासी कवायद के बावजूद स्थानीय कांग्रेस नेताओं में आपसी गुटबाजी कम होती नहीं दिख रही है। अगले कुछ दिनों में दलगत उठापटक अपेक्षाकृत ज्यादा बढ़ने के आसार साफ नजर आ रहे हैं।    

-दिनेश ठक्कर "बापा"


एक टिप्पणी भेजें