अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

शनिवार, 20 जुलाई 2013

यादें : धर्मयुग में ताला गांव के देवरानी-जेठानी मंदिर पर प्रकाशित आलेख

छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध पुरातात्विक स्थल ताला गांव के देवरानी-जेठानी मंदिर पर आधारित मेरा विश्लेष्णात्मक आलेख टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप की लोकप्रिय रही पत्रिका "धर्मयुग" के 3 अप्रैल 1988 के अंक में प्रकाशित हुआ था। उस वक्त धर्मयुग के कार्यवाहक संपादक श्री गणेश मंत्री थे। यह अंक आज भी मेरे संग्रह में धरोहर और यादगार स्वरूप सुरक्षित रखा है। बहरहाल, इस आलेख में मैंने शिखर विहीन देवरानी मंदिर की प्राचीन शिल्प कला की विशेषताओं, उसके भग्नावशेष और दुर्लभ प्रतिमाओं की उपेक्षापूर्ण हालत तथा ध्वस्त जेठानी मंदिर पर प्रकाश डाला था। कुछ पुरातत्वविदों के मुताबिक़, देवरानी मंदिर छठवीं शताब्दी के पूर्वार्द्ध और जेठानी मंदिर छठवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में निर्मित हुआ था। हालांकि इनके काल निर्धारण के सन्दर्भ में आज भी भ्रांतियां व्याप्त है।खंडित देवरानी मंदिर शासन द्वारा प्रमुख संरक्षित पुरातात्विक स्मारकों में से एक है।                          

एक टिप्पणी भेजें