अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

मंगलवार, 9 अप्रैल 2013

शरणम् सोमनाथ महादेवं



सौराष्ट्रदेशे वसुधावकाशे ज्योतिर्मयं चंद्रकलावतंसम।
भक्तिप्रदानाय कृतावतारम तं सोमनाथं शरणं प्रपद्ये।।
एक टिप्पणी भेजें