अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

बुधवार, 24 अप्रैल 2013

यादें : "धर्मयुग" में मल्हार की डिड़िन दाई पर आलेख

















द टाइम्स ऑफ इंडिया समूह की लोकप्रिय रही पत्रिका "धर्मयुग" (मुंबई) का शक्ति अंक १६ अक्टूबर १९९३ को प्रकाशित हुआ था, उसमें मल्हार  के डिड़नेश्वरी देवी-मंदिर पर आधारित मेरे आलेख को भी शामिल किया गया था। यह अंक धरोहर और स्मृति स्वरूप आज भी मेरे संग्रह में सुरक्षित रखा है। उस वक्त श्री विश्वनाथ सचदेव, धर्मयुग के संपादक थे। इस शक्ति अंक के मुख पृष्ठ और मेरे आलेख की छाया प्रति सुधि पाठक मित्रों के लिए सादर प्रस्तुत है। ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिला मुख्यालय से ३२ कि.मी. दूर स्थित ग्राम मल्हार अपने प्रागैतिहासिक- पुरातात्विक महत्व और संपदाओं के कारण विख्यात है।                        
एक टिप्पणी भेजें