अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2013

अंजार, कच्छ स्थित मेरे देवस्थान


गुजरात के सरहदी जिले कच्छ के ऐतिहासिक शहर और मेरी जन्म भूमि "अंजार" में कोडराणी कुटुंब का यह देवस्थान है। मैं भी कोडराणी परिवार का एक सदस्य हूँ। कोडराणी कुटुंब के पूज्य दादा श्री खेतरपाण और कुलदेवी माँ बूटभवानी इस देवस्थान में प्रतिष्ठापित हैं। यहाँ प्रतिदिन पूजा अर्चना के अलावा हर साल वसंत पंचमी को विशेष वार्षिक पूजन महोत्सव (पेढ़ी) आयोजित किया जाता है, जो पिछले 26 साल से जारी है। देश विदेश में निवासरत कोडराणी कुटुंब के सदस्य जन इसमें सम्मिलित होते हैं। मैं भी इसमें सपत्नीक शामिल हुआ। यहाँ वसंत पंचमी को शाम छह बजे से हवन के साथ पूजा अर्चना प्रारम्भ होती है। फिर रात को महाप्रसाद के वितरण के बाद इसका समापन होता है। इस साल के पूजन यजमान राजू भाई कोडराणी (अंजार लोहाणा महाजन ट्रस्ट के अध्यक्ष और अंजार नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष) थे।             
एक टिप्पणी भेजें