अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

बुधवार, 25 जुलाई 2012

अचानकमार के आदिवासी बंधु के संग


कब बदलेंगे सूरत-ए-हाल ...
(फोटो : कमल दुबे) 
एक टिप्पणी भेजें