अभिव्यक्ति की अनुभूति / शब्दों की व्यंजना / अक्षरों का अंकन / वाक्यों का विन्यास / रचना की सार्थकता / होगी सफल जब कभी / हम झांकेंगे अपने भीतर

सोमवार, 20 फ़रवरी 2012

धर्मयुग में रूद्र शिव की प्रतिमा पर आलेख

बिलासपुर (छत्तीसगढ़) से तीस किलोमीटर दूर स्थित ताला गाँव में देवरानी मंदिर के मुख्य द्वार के समीप वर्ष १९८८ के जनवरी माह के दूसरे पखवाड़े में खुदाई के दौरान प्राप्त रूद्र शिव की प्रतिमा पर राष्ट्रीय स्तर पर सर्वप्रथम मेरी विशेष रपट पत्रिका धर्मयुग के २५ सितंबर, १९८८ के अंक में प्रकाशित हुई थी. उसकी फोटो कॉपी यहाँ प्रस्तुत है.      
एक टिप्पणी भेजें